Sunday, October 25, 2009

चटोरी जुबान रुकती नहीं !

अभी मैं भोपाल में हूँ। ‘राजनीति’ की अंतिम चरण की शूटिंग जारी है। इस पूरी शूटिंग के दौरान खाने का सिलसिला लगातार चल रहा है। कभी-कभार वर्जिश कर लेता हूँ। लेकिन पता नहीं क्यों चटोरी ज़ुबान रुकती ही नहीं ! हर दिन कहीं-न-कहीं से चिकन बिरयानी आता है या फिर मटन आता है। एक दिन खाना खाने के बाद अगले दिन के खाने की प्लानिंग शुरु हो जाती है। कोशिश कर रहा हूँ कि इस सिलसिले को थोड़ा रोकूँ, वरना वजन बढ़ जाएगा। लेकिन फिर यह लगता है कि पता नहीं भोपाल कब आना होगा और कब इस तरह का स्वाद फिर मिलेगा। ढाई साल पहले सिगरेट छोड़ने के बाद खाने का स्वाद पहली बार महसूस करना शुरु किया है। और अब खाना खाने में बहुत मन लगता है। इतने साल मैं सिगरेट पीता रहा तो खाना खाने का स्वाद जाता रहा था और सच कहूं तो खाना खाने में दिलचस्पी भी नहीं थी।

ख़ैर, इसके बाद वापस “जेल” के प्रचार प्रसार में लगूंगा। फिर एक नयी फ़िल्म को दर्शकों तक पहुँचाने की प्रक्रिया शुरु करुंगा। “जेल” में मेरा किरदार बहुत ही अनोखा है। एक सूत्रधार का रोल कर रहा हूँ। एक ऐसा व्यक्ति जो आजीवान कारावास की सज़ा काट रहा है, जिसने अपने जीवन को भगवान के सहारे छोड़ दिया है और कहीं-न-कहीं ऊपर वाले की मर्ज़ी से उसने समझौता कर लिया है।

मधुर भंडारकर ने जब फिल्म ऑफ़र की थी, तो मैं उसे बिना सुने भी करने को तैयार था। क्योंकि मधुर से मेरी संघर्ष के दिनों से जान-पहचान थी। श्री राम गोपाल वर्मा को वो असिस्ट किया करते थे और इन्होंने अभी-अभी सहायक निर्देशक का काम छोड़कर अपना काम तलाशना शुरु किया था। और मैंने “दौड़” की शूटिंग शुरु की थी राम गोपाल वर्मा के साथ। काफ़ी मिलना-जुलना रहा है। और उसने “जेल” फ़िल्म भी अच्छी बनायी है।

मधुर मुख्यधारा की ही फ़िल्में बनाते हैं, लेकिन विषय का चुनाव और जिस तरह से वो फ़िल्म का निर्देशन करते हैं, उससे वो फ़िल्में थोड़ी अलग दिखती हैं। ख़ास बात ये कि कहीं-न-कहीं सामाजिक सरोकार इनकी फ़िल्मों में दिखता है, जो बात मुझे बहुत अच्छी लगती है। मैं जानता हूँ कि लोग इस फ़िल्म को पसंद करेंगे। अब ये देखना कि लोग कितनी तादाद में सिनेमाहॉल के भीतर जाते हैं। एक सार्थक और यथार्थ से भरपूर फ़िल्म को देखने के लिए। मेरी दुआएँ मधुर भंडारकर और पूरी टीम के साथ हैं। और उनको मैं धन्यवाद देता हूँ मेरा पूरा ख़्याल रखने के लिए। मैं चाहूंगा कि फ़िल्म सफल से सफलतम साबित हो। इसमें दर्शकों के सहयोग की ख़ासी आवश्यकता होगी। “जेल” फ़िल्म देखें और अपना सुझाव या आलोचना भेजना न भूलें।

इसी के साथ
आपका और सिर्फ़ आपका
मनोज बाजपेयी

15 comments:

सैयद | Syed said...

भोपाल में रह कर ज़ुबान पर कंट्रोल हो ही नहीं सकता :)

Pramod Tambat said...

भोपाली बिरयान जितना खा सकते हैं खा लीजिए, यह स्वाद दुनिया के किसी कोने में नहीं मिलेगा। उस फिर बनारसी पान भंडार से एक पान का बीड़ा भ्ज्ञी दबा लीजिए, सोने पर सुहागा हो जाएगा। मोटापा तो क्या अपने घर की दुकान है कभी भी बंद कर लो।
अभी अभी मैंने भी अपनी पोस्ट लगाई है, समयमिले तो पढ़ लें।

प्रमोद ताम्बट
भोपाल
www.vyangya.blog.co.in

श्रीश पाठक 'प्रखर' said...

मनोज जी आपकी हर फिल्म मै पूरी संजीदगी से देखता हूँ, जेल और राजनीती भी यकीनन अच्छी ही होगी...

राहुल प्रताप सिंह राठौड़ said...

मनोज जी ...आपने जो सिगरेट छोड़ने की बात बताई ....वो काफी बढ़िया है |मैं तो कहता हूँ अगर सब आपकी तरह प्रतिज्ञा करलें तो कैसी भी लत हो जरूर छुट जायेगी |

दिवाली तथा छट पूजा की शुभकामनाएं

महफूज़ अली said...

bhai ....... hamen to filmen dekhna bahut hi below standard lagta hai..... aur hindi mein jo bhi filmen banti hain..... wo hujm 20 saal pehle hi hollywood ki movies mein dekh chuke hain...... aur jo hindi picturen ab aatib hain...... unka original ,...... hum Star movies, HBO aur AXN par pehle hi dekh chuke hote hain..... to kaun apna sar fode hindi picture .... wo bhi below standard remake.... abhi pata nahi koi gaana ka promo dekhe they..... DADDY's COOL ..... ab yeh gaana jab hum 4 saal ke they.... to Boney M...... ke moonh se sun chuke they...... ab desi version dekh ke man kiya ki aatmhatya kar len.....


abhi dekhiye.... aapki jail aur rajniti bhi kahin na kahin se chori ki hi nikal jayegi..... bas dekhne bhar ki deri hai..... aap kisi ko samjhaiye na..... ki bhaiya original likhen, direct karen aur act karen......

aapka chota bhai....

mahfooz

jitendra said...

Hi sir,

Once Again Best Wishes for your Upcomming film "Jail" Hope it will be as good as madhur bhandarkars other films.waiting for your next post. bye

"अर्श" said...

bade chatore ho miyaan, magar khub jam ke naa khaya to kya kiya... badhaayee ho wajan ko sambhaal ke jaraa sa...


arsh

Kusum Thakur said...

धन्यवाद !! हमें ऐसे ही अपनी सिनेमा के बारे में अवगत कराते रहिये ।
हम जेल और राजनीति दोनों अवश्य देखेंगे ।

Dipak 'Mashal' said...

:)

अनिल कान्त : said...

भोपाल है ही शहर ऐसा की वहाँ के स्वाद के आगे जुबान काबू में नहीं रहती
और हम 'जेल' फिल्म जरूर देखेंगे जी

शिवम् मिश्रा said...

मनोज भैया,
प्रणाम !
आपने तो वही बात कर दी कि,"क्या करे कंट्रोल नहीं होता !!"
खैर, खूब आनद लें भोपाल की रंगीनियों का !
"जेल" के लिए आपको और आपकी पूरी टीम को बहुत बहुत शुभकामनाएं !
शेष शुभ !
आपका अनुज
शिवम् मिश्रा
मैनपुरी, उत्तर प्रदेश

rashmi ravija said...

मधुर भंडारकर की फिल्म का हमेशा ही इंतज़ार रहता है,उनकी फिल्मों के कथानक हमेशा यथार्थपरक होते हैं और सारे पात्र हमेशा जाने पहचाने से लगते हैं ...अच्छा है,आपने 'जेल' फिल्म के बारे में बताया..आशा है इस फिल्म के साथ भी वे पूरा न्याय करेंगे....आपकी भूमिका भी यकीनन अच्छी होगी.

शरद कोकास said...

कौ खाँ क्या के रिये हो..सई मे सिगरेट छोड़ दी ? एसा हे तो भोत से लोग ये पढ्के दुआए देंगे मियाँ , पेसा-वेसा कोई काम नई आता सेहत हे तो ज़िन्दगी हे । आप अप्ने काम मे शोहरत पाएँ ओर खूब बिरयानी खाएँ । हम जल्दी ही जेल जा रहे हे मियाँ ..मतलब फिलीम जेल.. आप मिलोगे ना व्हाँ ?

Ram-Krishna said...

Hallo Mr Manoj mahoday,

How are you doing?
Please take care of your food habit & health which is very imp to you and to your admirers. I didnt see the last blog write up, dont know whether its been uploaded wrongly or what? Please let me know...If possible?
Well!..Thank you for your recent blog.I always check & keep eye on ur blog but due to very busy research activity & schedule, am not able to make comment on each blog as usuallly people do. Hope you understand me! As I have already mentioned and again reiterate that I realy enjoy it to read what you are doing. You are not only one of the greatest actor of the time, you also are a man down to earth..and what ever achieved in life is just dint of hard word, dedication & descipline!
Thank you for the opportunity to read what are you doing where ever you are.....And of course to up date all in blog.....!
recently I have atched all the promos and review of JAIL! Awesome one.. Just waiting to get it's released here at Hong Kong so that I can watch it with my friends...!
Further, As usual I believe Mr Jha(Prakash) is one of the brillient indigenious director of the country & Indian cinema, hence I do hope that your character, role and looks all will make the movie an extra ordinary and no doubt it will be another hit movie in your cap.. So I am eagerly looking forward & waiting anxiously to watch the movie called "RAJNEETI", .....I love to watch our Legend movie, and it will rock one more time !!
So, again..please take care of your health undr controlled food habit. We simply love you and support you till the end..... We love you ....and keep loving you!
And..All the best for fourth comming "RAJNEETI" Mr Bajpayee!! I am sure it'll be a huge success. You rock..as always....with great magnified & filtered intensity!!
To us, you are like a mirror that we always have to look at to gauge how magnificence, humility, courage and love can be combined in one man’s treasure. My dear MB, just keep on warding off the darkness of ignorance, of anger, of temptations, with the light of your wisdom, love and freedom. May you continue to be a guidance and inspiration for all. Amen!

Spread the light!
With Endless Love & prayers

May God bless your for good health & longevity of life.

Sincerely,
Dr.rer.nat. Ram-Krishna THAKUR
Sr. Scientist,
Experimental Physics & Nano-Technology,
The Hong Kong Uni of Science & Technology, Hong Kong

Priya said...

Wow! aapne cigrate chod di....tab achchey hai aap thode se:-) Ji bhar kar khaiye.....don't worry ham sab yani aapke fans motu manoj ji ko bhi pasand karenge:-)