Thursday, June 2, 2011

बहुत हुआ आराम, अब काम

करीब तीन महीने घर पर रहने और अपनी पत्नी व बेटी के साथ समय बिताने के बाद ‘आरक्षण’ का बचा खुचा काम किया और अब समय आ गया है कि मैं काम पर निकलूं। मैं निकल रहा हूं बिजनौर की तरफ। वहां अगले एक महीने तक मेरी अगली फिल्म की शूटिंग है। फिल्म का नाम भी ‘बिजनौर’ ही है शायद। नाम अभी तय नहीं हुआ है। पहली बार पश्चिमी उत्तर प्रदेश को करीब से देखने का मौका मिलेगा और उसे जीने का मौका मिलेगा।

मेरे साथ कुछ ऐसा संयोग रहा है कि यहां के निर्माता-निर्देशक मुझे उन फिल्मों में ही लेते हैं, जिनकी शूटिंग हिन्दुस्तान की जमीन पर ही हो सके। स्विटजरलैंड और इंग्लैंड में शूटिंग होने वाली फिल्मों में मेरे लिए कभी ज्यादा जगह नहीं रही। वैसे, यह अपने आप में सौभाग्य है कि मैं अपनी जमीन से जुड़ी फिल्मों का हिस्सा आज तक रहा हूं। मुझे गर्व होता है अपनी फिल्मों की सूची देखकर, जिसमें ज्यादातर फिल्में यहां के लोग और यहां के जीवन के बारे में बात करती दिखती है। मेरी फिल्में यहां के द्वंद और यहां के संघर्ष की बात करती दिखती हैं। यहां के हंसी मजाक को पर्दे पर लेकर आती हैं।

विदेश में शूटिंग करने का फायदा यह होता है कि आपको एक नया देश, एक नयी संस्कृति देखने का मौका मिलता है। लेकिन तभी एक दोस्त का कहा हुआ याद आता है। वह कहता था-जिसने अपने देश को नहीं देखा, उसे विदेश जाने का कोई हक नहीं । व्यक्ति बाहर के लोगों को नहीं समझ पाएगा, जब तक वह अपने देश के लोगों से न जुड़ा रहा हो। संयोगवश ही सही लेकिन मेरी फिल्मों ने मुझे यह सौभाग्य प्रदान किया है कि मैं देश के कोने कोने में घूम कर आ चुका हूं। बस बाकी है तो अतिपूर्व का इलाका। वहां जाने की बड़ी मंशा है। वहां के लोग, वहां की संस्कृति और वहां का खाना नजदीक से देखने की बड़ी इच्छा है। मैं लगातार ब्लॉग के जरिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अनुभव आप लोगों के साथ बांटता रहूंगा। अपनी फिल्म के किस्से भी ब्लॉग पर लिखता रहूंगा। आप दुआ कीजिए कि यह फिल्म अच्छी बनी, जिसे देखकर आप सभी मेरे चाहने वाले मुझ पर गर्व करें। कोशिश भी मेरी यही रही है क्योंकि कहीं न कहीं मेरा मानना कि सारी सफल फिल्में अच्छी नहीं होती और सारी विफल फिल्में बुरी नहीं होती। कोशिश इस बात की होनी जाहिए कि ऐसी फिल्म बनायी जाए, जिसे देखकर आपके बच्चों को भी गर्व हो सके। इस कोशिश में ही जुटने जा रहा हूं। आपसे लगातार ब्लॉग के जरिए मिलना होता रहेगा। तब तक आप सभी लोग अपना ख्याल रखें।

आपका और सिर्फ आपका
मनोज बाजपेयी