Monday, September 5, 2011

खुश हूं अन्ना का आंदोलन सफल हुआ और ‘आरक्षण’ भी

‘आरक्षण’ को लेकर काफी व्यस्त रहा। फिर घर में बेटी के आगमन के बाद जब भी घर पर होता हूं, अवसर ही नहीं मिल पाता कि मैं कुछ लिखने बैठूं। खैर, आज इस मौके को गवाउंगा नहीं। ‘आरक्षण’ ने अच्छा व्यापार किया।

आरक्षण के प्रचार के दौरान अधिकतर जगहों पर मेरा और श्री अमिताभ बच्चन जी का साथ जाना हुआ। उनके अपार प्रशंसक समुदाय को देखने-सुनने का मौका मिला। कई बार ये सोचता भी रहा कि श्री बच्चन की लोकप्रियता का जो दौर मैंने अपने बचपन में देखा था, वो आज तक कहीं रुका नहीं है बल्कि बढ़ता ही गया है। पटना पहुंचने के बाद तो ऐसा लगा कि पूरा शहर ही श्री अमिताभ बच्चन के आने के इंतजार में था।

‘आरक्षण’ ने कई बहस को जन्म दिया। कई सारी पुरानी बहस भी नयी हो गईं। इस कारण कुछ एक राज्यों में फिल्म को नुकसान भी उठाना पड़ा। अंतत: फिल्म ने अच्छा व्यापार किया। लोगों ने काफी सराहना की और इससे फिल्म से जुड़े सभी लोगों को संतोष है। बड़ी फिल्म करने का यह फायदा अवश्य है कि प्रचार प्रसार में बहुत अधिक खर्चा किया जाता है, जिससे दर्शक वर्ग उस फिल्म को देखने के लिए उत्सुक रहता है। लेकिन कहीं न कहीं दुख भी होता है उन छोटी और अच्छी फिल्मों के लिए, जिनके पास इतना पैसा नहीं होता जो बड़े स्तर पर प्रचार प्रसार कर सकें। इसके कारण दर्शक वर्ग कई बार उनमें रुचि ही नहीं दिखाता। यह अपने आप में विडंबना है। फिर भी मैं बहुत खुश हूं। न सिर्फ अपने लिए बल्कि प्रकाश झा जी के लिए भी, जिनकी मेहनत सफल हुई।

इस फिल्म के बाद लगातार घर पर रहना हुआ। अन्ना हजारे जी के आंदोलन को देखने सुनने समझने का मौका हाथ लगा। खुशी इस बात की है कि आंदोलन सफल रहा। और भ्रष्टाचार आज हमारे समाज और हमारे देश में सबसे बड़ा मुद्दा बन गया। इस मुद्दे को अभी तक मुद्दा माना ही नहीं जाता था। अन्ना हजारे ने एक बड़ी अच्छी बात कही। वह यह कि सिर्फ टोपी ही नहीं पहनों बल्कि अपने चरित्र को भी बदलो। यह अपने आपमें बहुत बड़ी बात है। बदलाव हम सब को अपने घर से और अपने आप से ही शुरु करने हैं। फिर हमें ताकत मिलेगी हर उस सरकार से अपनी मांग करने की, जो सत्ता में है।

अभी मेरी बेटी फिर से मेरे साथ होने की मांग कर रही है और मैं उसके पास जा रहा हूं। लेकिन वादा करता हूं कि जल्द ही फिर से लिखूंगा।

इसी के साथ
आपका और सिर्फ आपका
मनोज बाजपेयी