Tuesday, December 6, 2011

उम्मीद है ‘लंका’ का बजेगा डंका

मेरे लिए सबसे सुखद समय तब होता है, जब मैं यह कहता हूं कि फिल्म के ऊपर हममें से किसी का बस नहीं चलेगा। अब ये दर्शकों के पास जा रही है। क्योंकि जितना काम करना होता है, हम प्रदर्शन की तारीख को ध्यान में रखते हुए कर लेते हैं और अगर ज्यादा से ज्यादा समय मिले तो भी हम कुछ न कुछ करते ही रहेंगे। अंतत: निर्माता-निर्देशक दर्शकों को लिए फिल्म बनाते हैं तो एक तारीख का तय होना बहुत जरुरी होता है।

‘लंका’ से मैं बहुत खुश हूं। मुख्य धारा की फिल्म को यथार्थ के साथ दिखाने की जो परंपरा है, उसे यह फिल्म कहीं न कहीं आगे ले जाती है। और ये बताती है कि हम ‘रिएलिज्म’ के साथ रहकर भी मुख्यधारा की फिल्म बना सकते हैं। मुझे आशा है कि लोगों को भी ऐसा ही लगेगा और इस फिल्म को सभी पसंद करेंगे। मुझे इस फिल्म को बनाने के पूरे अनुभव से बहुत खुशी मिली है। अपने काम में तो कमियां मैं हमेशा निकालता ही रहता हूं। अभी तीन चार शहरों का दौरा करके हम लौटे हैं, जहां ‘लंका’ के बारे में प्रचार-प्रसार जोर शोर से किया। चिल्ला चिल्का कर लोगों को बताया कि लंका आ रही है। ये हमारे कांट्रेक्ट का हिस्सा भी होता है।



चूंकि छोटी फिल्म है तो प्रचार के लिए बजट भी कम होता है। तो जितनी मेहनत खुद से होती है तो वो करते हैं बाकी ऊपरवाले और दर्शक के हाथ मे छोड़ देते हैं। अब आशा यह है कि अच्छी फिल्म देखने के लिए दर्शक दूसरी फिल्मों के जोर शोर के प्रचार प्रसार पर न जाकर ‘लंका’ जरुर देखने आएं। लोगों को फिल्म पसंद आएगी। वैसे, ये एक उम्मीद है, जिस पर मैं हमेशा खरा नहीं उतरा हूं। क्योंकि फिर अपनी बात को दोहराते हुए कहता हूं कि अच्छी फिल्म से ज्यादा दर्शक उन फिल्मों को देखना पसंद करते हैं, जिनका प्रचार बहुत पैसे लगाकर होता है।

मीडिया से भी हम लोगों को ज्यादा सहायता नहीं मिलती। वहां भी अपने कुछ दोस्तों को खोजना पड़ता है और उनसे कुछ मदद लेनी पड़ती है। नहीं तो अमूमन यह वर्ग ऐसा है,जो जल्दी छोटी फिल्मों की गतिविधि को रिकॉर्ड करने में हिचकिचाता है। उनके पास शायद अपने कारण हैं। लेकिन छोटी और अच्छी फिल्मों को करने की जिद मैं नहीं छोड़ूंगा। कभी न कभी तो लोग मेरे साथ आएंगे। स्वभावत: जिद्दी हूं। अब उसमें सफलता मिले या विफलता यह स्वीकार्य है। उम्मीद कभी नहीं छोड़नी चाहिए और मैं भी नहीं छोड़ूंगा।

फिलहाल, 9 तारीख को लंका प्रदर्शित हो रही है और मैं चाहूंगा कि आप सब न सिर्फ खुद आएं बल्कि दोस्तों और परिजनों को साथ लेकर आएं। आपको मजा आएगा।

इसी उम्मीद के साथ

आपका और सिर्फ आपका

मनोज बाजपेयी